Monday, 28 January 2019

अपना विचार धार

भगवान मूर्तियों में नहीं है।
आपकी अनुभूति आपका ईश्वर है।

आत्मा आपका मंदिर है।धार